उत्तर प्रदेशगोरखपुर

गठबंधन प्रत्याशी की सूखाग्रस्त नीति से कार्यकर्ता मायूस स्थिति दयनीय बनी- सूत्र

कार्यकर्ताओं की पूछ ना प्रत्याशी ना पार्टी के स्थानीय नेता कर रहे पार्टी के स्थानीय सफेद पोश है भौकाल में पॉकेट में लेकर चल रहे हैं अपने बिरादरी का मत

 

 

गोरखपुर। सदर लोकसभा चुनाव में गठबंधन प्रत्याशी की सूखाग्रस्त नीति को लेकर पार्टी कार्यकर्ताओं में चर्चा का विषय बना हुआ है जिस के नाते गठबंधन की बनी बनाई बाजार कि भीड़ खिसकने लगी है वहीं सूत्रों की मानें तो कार्यकर्ताओं को प्रत्याशी ना जानता न पहचानता वह भला ऐसे में कार्यकर्ताओं को भागदौड़ के नाम पर मिलने वाली व्यवस्था से लोग कोसों दूर हो चले हैं प्रत्याशी की हठ वादित रवैया से सपा व बसपा कार्यकर्ता जो शहर से लेकर गांव में संघर्ष करते हैं वह इनसे दूरी बनाते हुए चुप्पी साधे बैठ गए हैं। जिस के नाते गठबंधन प्रत्याशी की स्थिति पूर्व की भांति से अब दयनीय नजर आने लगी है क्योंकि स्थानीय कुछ सफेदपोश प्रत्याशी को गलत फिटिंग कर रहे कि मेरे बिरादरी का वोट मेरे पार्क़ेट से ही निकलता है। मालूम हो कि अन्य स्थानों की तरह सदर लोकसभा में गठबंधन प्रत्याशी की हवा नहीं चल पा रही जिसका मुख्य कारण है कि प्रत्याशी कुछ सोच समझ कर दिल को नहीं खोल सका है सूत्रों की मानें तो गठबंधन प्रत्याशी को स्थानीय सफेदपोश नेताओं भौकाल दिखाकर अपनी कॉलर टाइट करने में लगे हैं लेकिन वहीं सपा व बसपा के घाटी कार्यकर्ताओं की पूछ नहीं की जा रही और ना तो उनके लिए भागदौड़ हेतु व्यवस्था भी नहीं दी जा रही है जिसके नाते कार्यकर्ता मायूस होकर चुप्पी साधे बैठ गए हैं। कार्यकर्ताओं के चुप्पी साधने से गठबंधन को भारी झटका लग सकता है सूत्रों की मानें तो यदि प्रत्याशी का रवैया ऐसा ही रहा तो बनी बनाई स्थिति ध्वस्त हो सकती है।

 

डुमरियागंज की घटना से सजग हो रहे प्रत्याशी

गोरखपुर चुनाव के बाद डुमरियागंज में ईवीएम की हेराफेरी करने की साजिश का मामला जानकारी होने पर स्थानीय लोक सभा ओं के कांग्रेसी गठबंधन प्रत्याशियों में खलबली मच गई है प्रत्याशी सदमे में है फिर भी ऐसा ना होने पाए को लेकर प्रत्याशियों द्वारा गोपनीय बैठक कर विचार-विमर्श होना शुरू हो गया है

Shortlink http://q.gs/Erw4F