कुशीनगरगोरखपुर

किसानों की लड़ाई आजीवन लड़ूंगा : राधेश्याम सिंह

भाजपा की सरकार मे किसान त्रस्त बालेश्वर यादव पूर्व सांसद क्रासर- सायंकाल 5 बजे जिला गन्ना विकास अधिकारी के आश्वासन पर धरना समाप्त

भगवन्त यादव

कुशीनगर । गन्ना किसानों की समस्या की समाधान एवं 3 सूत्रीय मांगों को लेकर शुक्रवार को पूर्व राज्यमंत्री राधेश्याम सिंह के नेतृत्व में रामकोला चीनी मिल गेट पर किसान शहीद स्थल के निकट अनिश्चितकालीन धरने का आयोजन किया गया। धरने को संबोधित करते हुए पूर्व राज्य मंत्री राधेश्याम सिंह ने कहा कि आंदोलन के ऐलान से ही सरकार बकाए गन्ने का दाम किसानों दे रही है । किसान सरकार की गलत गन्ना नीति से परेशान है। यह लड़ाई मंदिर मस्जिद की नहीं है किसानों की पेट की लड़ाई है। इस लड़ाई को अंतिम मुकाम तक लड़ना है । जब तक जिंदा रहूंगा किसानों की लड़ाई लड़ूंगा।
श्री सिंह ने कहा कि हमारी सरकार थी तो गन्ना किसानों को अपने खजाने से 40 रूपये प्रति कुंतल दाम मिला कर देती थी। केंद्र सरकार विदेश से सस्ती चीनी मंगाकर चीनी उद्योग को चौपट करने पर तुली है। हम समाजवादी लोग हैं संपन्नता खुशहाली चाहते हैं हमारी समस्या का निदान हो। तथा पूर्व सांसद बालेश्वर यादव ने कहा कि किसान बिरोधी है भाजपा सरकार उन्होंने भाजपा के जनप्रतिनिधियों पर निशाना साधते हुए कहा कि ये जनप्रतिनिधियों को किसान विरोधी बताया । हायल पर्चियो को लेकर किसान दर-दर भटक रहे हैं। हायल पर्चियो की वैधता बढ़ाने के लिए गोरखपुर भेजा जा रहा है और किसान का गन्ना खेत में सूख रहा है। श्री सिंह ने कहा कि घायल पर्ची की व्यवस्था तत्काल समाप्त की जाए। पेराई सत्र 2018- 19 में कम से कम गन्ना मूल्य 350 रूपये प्रति क्विंटल तय करके इस निर्धारित मूल्य को पर्चियो पर अंकित किया जाए। बकाया गन्ना मूल्य तथा नया गन्ना मूल्य भुगतान तत्काल किया जाए ।इसमे

Shortlink http://q.gs/EaKNG