उत्तर प्रदेशगोरखपुर

शिवपाल वादी समर्थक अखिलेश वादी पर जनपद में है भारी

 

गोरखपुर । बीते समय से अब तक समाजवादी पार्टी का हाल बेहाल में बदलाव नहीं आ पाया क्योंकि जब सपा की सरकार थी तो सरकार की फजीहताचार कराने में एक विशेष बिरादरी के लोगों की भूमिका अग्रणी रही है और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी अपनी छत्र छाया मेहरबानी का रोल करते रहे । यह जनपद ही नहीं बल्कि मंडल भरने विशेष बिरादरी के लोगों की हनक चलती रही। लेकिन सरकार बदलने के बाद करीब ६ माह तक विशेष बिरादरी के लोग चुप रहेंगे । झंडा बदल कर चलने लगे लेकिन फिर वही विशेष बिरादरी के लोगों की पार्टी के पदों पर आसीन होने का क्रम जारी हो गया जो आने वाले समय में वैसे दगे कारतूस वाले लोग पार्टी हित में कुछ कर दिखाने से पूरी तरह फ्लॉप रहे है फिलहाल अब तो खाता अलग हो ही गया जिसमें शिवपाल यादव अखिलेश वादी पर भारी है जिसका नतीजा ठीक नहीं होने का संदेश दे रहा है ।
बता दे कि जनपद की बात करें तो यहां सपाइयों की फौज थी लेकिन भाजपा सरकार बनने के बाद में फौज में काफी बदलाव आ गया है मजे की बात रहे पूर्व मंत्री शिवपाल यादव द्वारा मोर्चा बनाये जान से उनके समर्थकों खुशी की लहर दौड़ पड़ी।क्योंकि सपा ने समय रहते जनपद में अपने बेहतर कार्यकर्ताओं को स्थान नहीं दिया बल्कि उन्हे अनेरूवा टाइप लोगो को क्रम में लाकर दर किनार कर दिया। ऐसे में पूर्व मंत्री शिवपाल के मोर्चा बनाने पर जनपद में उनके समर्थको का हौसला बुलन्द हो गया है। जो अखिलेशवादी समर्थको पर भारी दिख रहे है। चूकिं अखिलेश वादी की समर्थको की जनता मं पैठ शुन्य के बराबर है। जिनकी जनता में पूछ नहीं है। क्योकिं समय रहते उन लोगो ने धन कमाने की राह पकड़ कर चलते रहे और जनता के सुख दुख में प्रतिभाग करते रहे। वहीं शिवपाल समर्थको को देखा जाये तो उन लोगो को पैठ जनता तक अभी भी बरकरार है।

Shortlink http://q.gs/EPJVw