ग्राम प्रधान व ग्रामीण नहीं चाहते कि कोरोना वायरस के चलते गांव में लाया जाए

गोरखपुर ।जहां कोरोना वायरस के चलते जारी लॉक डाउन उनका पालन कर लोग महामारी संक्रमण से बचने हेतु प्रयासरत हैं ।तो वहीं देश भर के प्रदेशों से मजदूरों को लाए जाने को लेकर गांव के लोग व प्रधान भयभीत है ।जो कह रहे हैं कि अब तक तो लॉक डाउन का पालन कराते गांव को सुरक्षित रखा गया है। लेकिन अब आ रही मजदूरों की भीड़ से खतरा बढ़ने का है भय व्याप्त होने लगा है।
इस बाबत पिपराइच के ग्राम बरौली प्रधान संतोष प्रजापति कहते हैं कि अब तक वायरस के बचाव में पूरा गांव सुरक्षित रहा लेकिन अब बाहर प्रदेश से आने वाले मजदूर भीड़ से गांव की स्थिति खराब हो सकती है। क्योंकि क्वारन्टीन हुए लोग दबंगई कर घूमते हुए वायरस को फैला सकते हैं। वहीं ग्राम प्रधान विजाहरा प्रदीप गुप्ता कहते हैं कि बाहर से आ रहे मजदूर खतरे की घंटी बजाएंगे जिससे रोक पाना आसान नहीं होगा। वही प्रधान मुनिब प्रजापति रुद्रपुर कसया ने कहा कि सरकार की मंशा रूप आने वाले मजदूरों को गांव के बाहर क्वारन्टीन में रखा जायगा लेकिन खतरनाक वायरस का भय गांव की जनता में व्याप्त है। क्योंकि यदि वायरस का लव ग्रामीण क्षेत्रों में दस्तक दिया तो मामला गंभीर होगा फिलहाल देश के कोने- कोने से फसे मजदूरो की जमात का आवक कोरोना जैसे खतरनाक वायरस का फैलाव बढ़ा तो स्थिति खराब होने रोका नहीं जा सकता। क्योंकि मजदूर है, मेहनत करते हैं तो इनमें इमिनियुटी सहनशक्ति भरपूर होती है। जिस के नाते देर में संक्रमण का उभार हुआ तो देखने योग होगा
मजे की बात है कि सरकार लगातार इन मजदूरों की जांच पड़ताल कराने में कोताही नहीं कर सकती। क्योंकि वायरस के संक्रमण को फैलने से रोकने की पूरी व्यवस्था पर कार्य हो रहा है।