एसएसबी के डीजी कुमार राजेश चंद्र (SSB DG Kumar Rajesh Chandra ) ने बताया कि सुबह करीब 8.40 बजे एक परिवार नेपाल जा रहा था. इन लोगों को बॉर्डर पर मौजूद नेपाल के सैनिकों ने रोका और वापस जाने के लिए कहा.

पटना|बिहार में सीतामढ़ी के सोनबरसा बॉर्डर  पर जानकीनगर गांव के पास भारत-नेपाल सीमा पर नेपाल पुलिस की ओर से अंधाधुंध फायरिंग की गई. 18 राउंड की फायरिंग की इस घटना में 4 भारतीयों को गोली लगी जिसमें एक व्यक्ति की मौत हो गई. फायरिंग की इस घटना के बाद से सीमा पर तनाव की स्थिति बनी हुई है. इस बीच एसएसबी के डीजी कुमार राजेश चंद्र ने जानकारी दी कि  शुरुआती जांच के आधार पर रिपोर्ट बनाई गई है और गृह मंत्रालय को सौंप दी गई है. उन्होंने कहा कि यह पूरी तरह से स्थानीय मुद्दा है और यह हंगामा ज्यादा समय तक नहीं चला है.

नेपाल की तरफ से की गई इस फायरिंग के बारे में जानकारी देते हुए एसएसबी के डीजी कुमार राजेश चंद्र ने बताया कि सुबह करीब 8.40 पर एक परिवार नेपाल जा रहा था. इन लोगों को नेपाल बॉर्डर पर मौजूद नेपाल के सैनिकों ने रोका और वापस जाने के लिए कहा. इसके बाद परिवार के सदस्यों और नेपाली सैनिकों के बीच बहस शुरू हो गई. इसी दौरान नेपाल के सुरक्षाकर्मियों ने करीब 18 राउंड फायरिंग की. इस फायरिंग में 3 लोग जख्मी हो गए जबकि एक शख्स की जान चली गई.

इस घटना में जानकी नगर टोला लालबंदी निवासी नागेश्वर राय के 25 वर्षीय पुत्र विकेश कुमार की जान चली गई. वहीं, विनोद राम के पुत्र उमेश राम व सहोरवा निवासी बिंदेश्वर शर्मा के पुत्र उदय शर्मा घायल हैं.  डीजी के अनुसार एक शख्स को नेपाल के सैनिकों ने पकड़ लिया है और अब भी वह उनके कब्जे में है. डीजी ने कहा कि हम उस शख्स की रिहाई के लिए उनसे बातचीत कर रहे हैं.

बता दें कि भारत-नेपाल के बीच 1751 किलोमीटर लंबी सीमा पर एसएसबी की तैनाती है. भारतीय सीमा पर एसएसबी के जवानों ने मोर्चा संभाला है तो नेपाल में शस्त्र बल के जवान तैनात रहते हैं. डीजी ने बताया कि यह सब कुछ नेपाल में हुआ भारतीय सीमा में नहीं. इधर बॉर्डर पर नेपाल की तरफ से की गई फायरिंग के बाद पास के खेतों में काम कर रहे किसान दहशत में आ गए हैं.